कवि और उनकी प्रमुख रचनाएँ

कवि रचनाएँ
कालिदासअभिज्ञान शाकुंतलम्, मालविकाग्निमित्रम्, मेघदूतम, कुमारसंभव, रघुवंशम, ऋतुसंहार, विक्रमोर्वशीयम
भवभूतिमहावीरचरित्र, मालती माधव, उतररामचरित्र
सुभद्रा कुमारी चौहानझाँसी की रानी, मुकुल, सीधे सादे चित्र, बिखरे मोती, उन्मादिनी, निधारा, राखी की चुनौती, बचपन, सभा के खेल, खिलौनेवाला, वीरों का कैसा हो वसंत, जलियाँवाला बाग़ में बसंत
बाणभट्टकादम्बरी, हर्षचरित्र, मुकुटताडितक, चण्डीशतक
केशवदासरसिकप्रिया, रामचंद्रिका, वीरसिंह चरित्र, कविप्रिया, विज्ञान गीत, जहाँगीरजस चन्द्रिका, छन्दमाला, रतनबामनी, बारहमासा
पदमाकरराम रसायन, पदम्भरण, प्रबोध पचासा, जगद्विनोद, हिम्मत बहादुर विरुदावली, प्रतापसिंह विरुदावली, हितोपदेश, कलि पच्चीसी, गंगालहरी, जयसिंह विरुदावली, आलीजाह प्रकाश
माखनलाल चतुर्वेदीहिम किरीटिनी, हिमतरंगिनी, मरण ज्वार, काजल औज रही, कृष्णार्जुन युद्ध, वनवासी, समय के पांव, चिन्तक की लाचारी, रंगों की बोली, साहित्य देवता, युग चरण
रामधारी सिंह “दिनकर”कुरुक्षेत्र, उर्वशी, रेणुका, रश्मिरथी, वंदगीत, बापू, धुप छाँह, मिर्च का मजा, सूरज का व्याह, परशुराम की प्रतीक्षा, हुंकार, हाहाकार, चक्रव्यूह, संस्कृत के चार अध्याय
जयशंकर प्रसादकामायनी, झरना, लहर, प्रेम पथिक, कानन-कुसुम, चित्राधार, एक चूंट, आंधी
सूर्यकान्त त्रपाठी “निराला”परिमल, गीतिका, अर्चना, आराधना, गीत गुंज, रागविराग, दो शरण, कुकुरमुता, अणिमा
सुमित्रानंदन पंतवीणा, पल्लव, गुंजन, युगवाणी, कला और बूढा चाँद, चिदम्बरा, युगपथ, लोकायतन
महादेवी वर्मानीहार, अग्निरेखा, दीपशिखा, मेरा परिवार, स्मृति की रेखाएं, पथ के साथी, अंखला की कड़ियाँ, अतीत के चलचित्र, नीरजा
गजानन माधव मुक्तिबोधकाठ का सपना, विपात्र, सतह से उठता आदमी, चाँद का मुँह टेढ़ा, एक साहित्य की डायरी, नई कविता का आत्म संघर्ष, नये निबंध, भूरी-भूरी खाक धूल, समीक्षा की समस्या, कामायनी एक पुनर्विचार, नये साहित्य का सौन्दर्य शास्त्र, भारत इतिहास और संस्कृति, एक अंतर्कथा
बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’कुमकुम, अपलक, विनोबा, हम अनिकेतन, सदा चाँदनी, स्तवन, उर्मिला, हम विषपायी जनम के, हिंडोला
भवानी प्रसाद मिश्रगीतफरोश, कालजयी, चकित है दुख, अधेरी कविताएँ, गाँधी पंचशती, नीली रेखा तक, दूसरा सप्तक, त्रिकाल संध्या, तुकों के खेल, कुछ नीति कुछ राजनीति
हरिशंकर परसाईतट की खोज, हँसते है रोते हैं, रानी नागफनी की कहानी, तब की बात ओर थी, भूत के पाँव पीछे, जैसे उनके दिन फिरे, पगडंडियों का जमाना, सदाचार का ताबीज़, शिकायत मुझसे भी, विकलांग श्रद्धा का दौर, बेईमानी की परत, ज्वाला और जल, तिरछी रेखाएं, अंत में
भूषणछत्रशाल दशक, दूषण उल्लास, भूषण हजारा, भूषण उल्लास, शिवराज भूषण, शिवाबावनी
भर्तृहरिनीति शतक, अंगार शतक, वैराग्य शतक, महामान्य टीका, शब्द धातु समीक्षा
शरद जोशीअंधों का हाथी, यथासंभव परिक्रमा, रहा किनारे बैठ, लक्ष्य की रक्षा, चाचा का ट्रक, दूसरी सतह, हम भ्रष्टन के अष्ट हमारे, जीप पर सवार इल्लियाँ, किसी बहाने, पिछले दिनों, एक गधा था, फिर किसी बहाने, बुद्धिजीवियों का दायित्व, शेर की गुफा में न्याय
शिवमंगल सिंह “सुमन’मिट्टी की बारात, हिल्लोल, वाणी की व्यथा, प्रलय सृजन, जीवन के गान, विंध्य हिमालय, युग का मोल, विश्वास बढ़ता ही गया
मंशी प्रेमचंदगबन, रंगभूमि, कर्मभूमि, गोदान, निर्मला, प्रेमा, वरदान, सेवासदन, कायाकल्प, मंगलसूत्र, पूस की रात, बॉका जींदार, बेटो वाली विधवा, बैंक का दिवाला, प्रेम का स्वप्न, पंच परमेश्वर, विक्रमादित्य का तेगा
कबीरबीजक, कबीर ग्रंथावली, कबीर रचनावली, साखी, अनुराग सागर
भारतेंदु हरिश्चंद्रविनय प्रेम पचासा, गीत गोविंदानंद, प्रेम फुलवारी, कृष्णचरित्र, बन्दर सभा, बकरी का विलाप, सतसई अंगार, श्री चन्द्रावली, सत्य हरिश्चंद्र, नीलदेवी, भारत दुर्दशा
चंदबरदाईपृथ्वीराज रासो
जगनिकआल खण्ड
सूरदाससूर सुखसागर, सूरसागर, सुरसावली, साहित्य लहरी, ब्याहलो
अमीर खुसरोतुगलकनामा, नुह-सिफिर, बाकिय नाकिया, तुहफा-तुस-सिगर, वसतुल हयात, गुर्रतुल-कमाल
विद्यापतिविद्यापति की पदावली, पुरुष परीक्षा, भू-परिक्रमा, कीर्तिपताका, पदावली
नरपति नाल्हबीसलदेव रासो
मालिक मोहम्मद जायसीपद्मावत, अखरावट, सखरावत, चंपावत, इतरावत, मोराईनाम, आखिरी कलम, होलीनमा, बारहमासा, धनावत
रैदासरैदास के दोहे
तुलसीदासरामचरितमानस, कवितावली, विनय-पत्रिका, विनयावली, दोहावली, गीतावली, पार्वती-मंगल, बरवै रामायण, रामजा प्रश्न
सेनापतिऋतु वर्णन, परिचय
रसखानप्रेम वाटिका, सुजान-रसखान
बिहारीबिहारी सतसई
राजकुमार वर्माअंजलि, हिमहास, निशीथ, जौहर, चितौड की चिंता, एकलव्य, चित्ररेखा
केदारनाथ अग्रवालफूल नहीं रंग बोलते हैं, पंख और पतवार, गुलमेहंदी, मार प्यार की था, युग की गंगा
धर्मवीर भारतीअंधा युग, कनुप्रिया, सपना अभी भी, ठंडा लोहा, देशांतर
रांगेय राघवश्यामला, पिघलते पत्थर, मेघवी, पांचाली, रूपछाया, डायन सरकार
नागार्जुनइस गुब्बारे की छाया में, प्यासी पथराई ऑखें, युगधारा
कुंवर नारायणकोई दूसरा नहीं, चक्रव्यूह, इन दिनों, तीसरा सप्तक
दुष्यंत कुमारएक कंठ विषपायी, जलते हुए वन का वसंत, सूर्य का स्वागत, आवाजों के घेर, साये में धूप
जगन्नाथदास रत्नाकर’उद्धव-शतक, गंगावतरण, श्रृंगार-लहरी
भारत भूषण अग्रवालएक उठा हुआ हाथ, कवि के बंधन, जागते रहो, अनुपस्थित लोग, मेरे खिलौने
नरेश मेहतापुरुष, अरण्या, प्रवाद पर्व, चैत्य
सर्वेश्वरदयाल सक्सेनाबांस का पुल, एक सूनी नाव, काठ की घंटियाँ, खूटियों पर टंगे लोग
गिरिजाकुमार माथुरतार सप्तक, मंजीर, नशा और निर्माण, मुझे ओर भी कहना है, शिलापंख चमकीले, धुप के धान
सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन “अज्ञेय’पूर्वा, सुनहरे शैवाल, असाध्य वीणा, हरी घास पर क्षण भर, बावरा अहेरी, आंगन के पार द्वार, कितनी नावों में कितनी बार
जगदीश गुप्तानाव के पांव, शम्बूक का युग्म, शब्द-दंश, आदित्य एकांत
रघुवीर सहायएक समय था, कुछ पते कुछ चिट्ठियां, लोग भूल गये हैं, आत्महत्या के विरुद्ध, सीठियों पर धुप में, दूसरा सप्तक
भिखारी दासश्रृंगार निर्णय, छंद प्रकाश, रस सारांश संवत
मीरा बाईराग सोरठा, राग गोविन्द, बरसी का मायरा, गीत गोविन्द टीका, मीराबाई की मलार
घनानन्दप्रिया प्रसाद, सुजान सगार
अयोध्या सिंह उपाध्यायचाँद-सितारे, बाल-गीतावली, खेल-तमाशा, बाल-विलास, चुभते चौपद, चौखे चौपद
महावीर प्रसाद द्विवेदीआर्य-भूमि, भारतवर्ष, कोकिला, काव्यमंजूना, काव्यकलाप, बालविनोद

Leave a Comment